Technology

अपनी कीमत पहचानो|जीवन का मूल्य हिंदी कहानी

अपनी कीमत पहचानो|जीवन का मूल्य हिंदी कहानी



एक बार एक आदमी महात्मा बुद्ध के पास पहुंचा। और जाते ही उसने महात्मा बुद्ध से पुछा। ‘ हे प्रभू, मुझे यह जीवन क्यों मिला है। इस इतनी बड़ी दुनिया में मेरी क्या कीमत है।” में बहुत ही गरीब हु। महात्मा बुद्ध इस आदमी की बात सुनकर मुस्कुराये,और उसे एक चमकीला पत्थर देते हुए बोले।, ”जाओ, अब पहले इस पत्थर का मूल्य पता करके आओ। किन्तु ध्यान रहे, तुम्हे इस पत्थर को बेचना नही है, तुम्हे केवल इस पत्थर की कीमत पता लगानी है। जब तुमको इस पत्थर की कीमत का पता चल जाये। तब बापस इस पत्थर को मेरे पास लेकर आना।

बेस्ट भ्रष्टाचार Corruption Quotes , भ्रष्टाचार कोट्स नारे 2019

इतनी बात सुनने के बाद आदमी उस पत्थर को लेकर एक आम वाले के पास पहुचा और आम बाले से पूछने लगा। की तुम मुझे इसकी क्या कीमत दे सकते हो। तब वह आम वाला समझ गया कि यह शायद काफी कीमती पत्थर है , लेकिन वो बनाबटी भाषा मे बोला मैं इस पत्थर के बदले में केवल तुम्हें 10 आम ही दे सकता हूं। अगर तुम्हें ये पत्थर 10 आम में मेरे हाथ बेचना है,तो बेच दो नही तो आगे बढ़ो।



आम बाले की बात सुनकर वह आदमी आगे बढ़ गया और तभी उसकी नज़र एक आलू बेचने वाले के ऊपर पड़ी। जब उस आदमी ने उस सब्ज़ी वाले से उस पत्थर का दाम पूछा। तो आलू वाले ने जबाब दिया कि मैं तुम्हें इस पत्थर के बदले में केवल एक ही बोरी आलू दे दूंगा। अगर पत्थर बेचना है तो बेचो नही तो बढ़ते चलो।

उस आलू बेचने वाले कि बात सुनकर यह आदमी फिर से आगे चल पड़ा। अब उसने सोचा कि मुझे लगता है कि यह पत्थर काफी कीमती है, तो मुझे किसी ऐसे आदमी से पूछना चाहिए जो इसकी सही कीमत का अंदाज़ा लगा सके पर इसकी सही कीमत बता सके, तो वह एक जौहरी की दुकान पर पहुंचा। पहुचने के बाद उस जौहरी से उसकी कीमत पूछने लगा तो जौहरी उस पत्थर को देखते ही अचानक अचंभित हो गया ओर पहचान गया की ये पत्थर रूबी पत्थर है जो बहुत ही कीमती है। मुझे किसी भी हाल में यह पत्थर इससे लेना होगा।

2019 Heart Touching Shayari , Bewafai Shayari, Broken Heart Shayari

उसके बाद उस जौहरी ने बड़ा अजीब सा चेहरा बनाकर ऊपरी आवाज़ में कहा कि मैं तुम्हें इस पत्थर के बदले में 1 लाख रुपए दे सकता हु। तुम यह पत्थर मुझे दे दो और एक लाख रुपए ले जाओ। उसकी बात सुनकर वह आदमी वापस लौटने लगा। और सोचने लगा की शायद यह पत्थर काफी ज्यादा कीमती पत्थर है। तभी इस पत्थर के ये जौहरी 1 लाख रुपये दे रहा है। तभी जौहरी बोला में तुम्हे इस पत्थर के 10 लाख रुपये दूंगा। लेकिन ये पत्थर तुम मुझे दे दो। तब उस आदमी ने मना कर दिया। तभी जौहरी फिर वोला की में तुम्हे इस पत्थर के 1 करोड़ रुपये दूंगा किन्तु तुम्हे ये पत्थर मुझे देना होगा



जौहरी की यह बात सुनकर उस आदमी को अंदाज़ा हो गया कि यह पत्थर कोई मामूली पत्थर नही है। वह ऐसा सोचकर बुद्ध के पास वापस लौट गया, और जाते ही उसने महात्मा बुद्ध को सारी बात बताई। महात्मा बुद्ध हंसते हुए उस आदमी से बोले, आम वाले ने इस पत्थर की कीमत 10 आम लगाई और आलू वाले ने इस पत्थर की कीमत एक बोरी आलू लगाई। और जौहरी ने इस पत्थर के बदले में तुम्हे 1 करोड़ रुपये बताएं।

उसका कारण यह है। कि जिसने जितनी इस पत्थर की कीमत समझी। उसने अपने हिसाब से इस पत्थर की कीमत लगाई। ऐसे ही जीवन है, हर आदमी हीरे ओर इस रूबी पत्थर के समान है। दुनिया उसे जितना पहचानती है। उतनी ही महत्व देती है। लेकिन हीरे और मनुष्य में एक अंतर होता है। हीरे को मनुष्य ढूंढता है। और मनुष्य को अपने आपको खुद ही ढूंढना पड़ता है। आप भी अपने आप को तलाश कर अपनी चमक बिखेर सकते हो, तुम भी कामयाब हो सकते हो। उसके बाद तुम भी अनमोल हो जाओगे।

रसूल अल्लाह इस्लामी कोट्स | रसूल अल्लाह के अनमोल बचन



अपनी कीमत पहचानो|जीवन का मूल्य हिंदी कहानी

Leave a Comment