रसूल अल्लाह इस्लामी कोट्स | रसूल अल्लाह के अनमोल बचन

रसूल अल्लाह इस्लामी कोट्स | रसूल अल्लाह के अनमोल बचन




हेलो दोस्तो कैसे हो सब में नाज़िम खान एक बार फिर स्वागत करता हु आपका अपने ब्लॉग OHT पर। मित्रो आज की इस पपस्त मे जानने बाले है। रसूल अल्लाह के कुछ अनमोल बचन। और उनके कुछ शायरी ओर कोट्स।

रसूल अल्लाह इस्लामी कोट्स | रसूल अल्लाह के अनमोल बचन


सबसे अच्छा मुसलमानी घर वह है।
जहां यतीम पलता है,,
और सबसे बुरा घर वह है,
जहां यतीम के साथ दुर्व्यवहार किया जाता है।


मैंने कहा, “ ए अल्लाह ! मुझे इस्लाम के बारे में कुछ ऐसा बता जो मेरे लिए काफी हो ।
और मुझे तेरे बाद किसी से इसके बारे में पूछना न पड़े। “रसूल अल्लाह ने कहा,” तू कह कि मै अल्लाह पर ईमान लता हूं और फिर उस पर कायम रहता हु।”


“एक आदमी ने पूछा, “ऐ अल्लाह के रसूल ! इस्लाम का सर्वोत्कृष्ट अंग कौनसा है ?”
उन्होंने कहा, “यह कि तू जिन्हें जानता है और जिन्हें नहीं जानता, उन सबको सलाम कर।”


मजदुर को उसका मेहनताना उसके,
पसीने के सूखने से पहले दे दें।


“ऐ अल्लाह, मुझे तू अपना प्यार दे, मुझे वर कि मैं उनसे प्यार करूं, जो मुझे प्यारे हैं, “”
मैं वह कम करूं, जिससे तेरा प्यार मिले, तू अपना प्यार मेरे लिए अपने आपसे, परिवार या धन से अधिक प्यारा बना दे।”


“वह हममें से नहीँ है, जो बच्चों के प्रति स्नेहवान नहीँ होता और बुजुर्गो की प्रतिष्ठा का सम्मान नहीँ करता है””!
और वह हममें से नहीं है, जो भलाई का हुक्म नहीं देता और बुराई को नहीं रोकता।”


जो अल्लाह की रह पर खर्च करने में कंजूसी करता है,
वह असल में अपने ही साथ कंजूसी करता है।”


“चुगली व्यभिचार से भी बुरी है। अल्लाह तब तक चुगलखोर को माफ नहीं करेगा,”””
“जब तक उसका साथी (जिसकी उसने बुराई की है) उसे नहीं माफ कर देता।”😢

रसूल अल्लाह के अनमोल बचन





“”तुम तब तक जन्नत में प्रवेश नहीं कर सकोगे, जब तक ईमान न लाओगे और तब तक तुम्हारा ईमान पूरा नहीं होगा,’
जब तक तुम परस्पर प्यार न करोगे।”


“ज्ञान प्राप्त करो। वह व्यक्ति को सही और गलत में विवेक करने के योग्य बनाता है।
वह जन्नत के ओ क्योंकि उस पर रास्ते को रोशन करता है।”


“कार्य – कलाप उसके परिवार के द्वारा बहुत पसन्द किये जाते है, वही सच्चा मुसलमान है।”


“सच्चा मोमिन खुशहाली में अल्लाह का शुक्रिया अदा करता है”‘!
और जब वह मुफलिसी में होता है तो उसके इच्छा के प्रति समर्पित होता है।”


“अल्लाह अपने धर्म प्रचारकों के प्रति जो प्रेम करता है वह माता के द्वारा शिशु के प्रति किये जाने वाले प्रेम से अधिक है।”


“अल्लाह उस पर इनायत करता है, जो खुद अपनी मेहनत से अपनी जीविका उपार्जित करता है, न की भीख मांगकर।”


“अगर तुम अल्लाह पर ईमान रखते हो क्योंकि उस पर ईमान रखा ही जाना चाहिए,
“तो वह तुम्हेँ ठीक वैसे ही देगा, जैसे वह परिन्दों को देता है। वे सुबह खाली और भूके पेट निकलते हैं।”
और शाम को भरपेट होकर लौटते हैं।”


“तुम आल्हा को खिश रखो!”
अल्लाह तुम्हे खुश रखेगा।


“”अगर आप अपनी ज़िंदगी मे सबसे आगे निकलना चाहते है।””
“”तो आपको अपने आप को बीते हुए दिन से बेहतर बनाना होगा””


“”जो इंसान खुद से वाकिफ हैं,
वह अल्लाह से अच्छी तरह वाकिफ हैं””!


“नेक बनने के लिए ऐसी कोशिश करो
जैसी कोशिश खूबसूरत दिखने के लिए करते हो “!!


जो ईमान तुम्हे बिसतर से उठा कर मस्जिद या मुसल्ले तक नही ले जा सके।
वो ईमान तुम्हे कब्र से उठा कर जन्नत कैसे ले जायेगा?”


अल्लाह के नजर में सर्वोत्कृष्ट सहचर वह है, जो अपने सहचरों के लिए सर्वोत्कृष्ट हो।””
और सबसे अच्छा पडोसी वह है, जो अपने पडोसीयों के लिए अच्छा हो।”

रसूल अल्लाह इस्लामी कोट्स | रसूल अल्लाह के अनमोल बचन




“”न आना मौत की अभी मेरा किरदार बाकि हे,!!
लाया था जो अपने रब से वो उधार बाकि हे,!!
दीद तो हो गई बहोत खुशियो की ग़ालिब,!!!
लेकिन अभी आक़ा के रोज़े का दीदार बाकि हे,!!


सजदे की खूबसूरती यह है कि,,
हम फर्श पर सिर रख कर जो कहते है,
वो अर्श पर सुनी जाती है।।


मत रख इतनी नफ़रतें अपने दिल में ए इंसान,
जिस दिल में नफरत होती है उस दिल में रब नहीं बसता।।


“”मुल्क लुट जाएगा ये आसार नज़र आते हैं,
अब हुकूमत में सब मक्कार नज़र आते हैं!!
मुल्क की आज़ादी में लुटा दीं जानें हमने,
और बेहयाओं को हम ही ग़द्दार नज़र आते हैं””!!


मस्जिद तो हुई हासिल हमको,
खाली ईमान गंवा बैठे ।
मंदिर को बचाया लढ-भीडकर,
खाली भगवान गंवा बैठे ।
धरती को हमने नाप लिया,
हम चांद सितारों तक पहुंचे ।
कुल कायनात को जीत लिया,
खाली इन्सान गंवा बैठे ।
मजहब के ठेकेदारों ने..
आज फिर हमे युं भडकाया ।
के काजी और पंडित जिन्दा थे,
हम अपनी जान गंवा बैठे ।


एक ही है सबकी मंजिल बस लफ़्ज़ों के तराने बदल जाते है।।
वो एक ही मुकाम है, जिसे कुछ स्वर्ग तो कुछ जन्नत का दरबार कहते है।।


अहल-ए-हुनर के दिल में धड़कते हैं सब के दिल
सारे जहाँ का दर्द हमारे जिगर में है।।


कुछ जाते है मंदिरो में, कुछ मस्जिदों की राह अपनाते है
पर मक़सद तो सबका एक ही,
जिसे लोग ख़ुशी की फ़रियाद कहते है।।

रसूल अल्लाह इस्लामी कोट्स | रसूल अल्लाह के अनमोल बचन

“”न ही फर्क एक तिनके का भी न ही खून का रंग कुछ और है।।
बस फर्क ये की किसी को लोग हिन्दू,
तो किसी को मुसलमान कहते है।।””


जाती पाती के नाम पर इंसान ने बेच दिया इस जहान को
कुछ इसे कृपा कहते है, कुछ इसे खुदा का फरमान कहते है।।


“जब तुम बोलो तो सच बोलो, जब वचन दो तो उसे पूरा करो, अपने दायित्व का निर्वाह करो,
व्यभिचार न करो, पवित्र बनो बुरे विचार मन में मत लाओ, अपने हाथ को रोको प्रहार करने से तथा उस चीज को ग्रहण करने से जो अवैध और बुरी है।”


“तुम तब तक जन्नत में प्रवेश नहीं कर सकोगे, जब तक ईमान न लाओगे ।
और तब तक तुम्हारा ईमान पूरा नहीं होगा, जब तक तुम परस्पर प्यार न करोगे।””


“अगर तुम अल्लाह पर ईमान रखते हो क्योंकि उस पर ईमान रखा ही जाना चाहिए,
तो वह तुम्हेँ ठीक वैसे ही देगा, जैसे वह परिन्दों को देता है। वे सुबह खाली और भूके पेट निकलते हैं।।
और शाम को भरपेट होकर लौटते हैं।”


ये जरूर पढ़ें

बरेली का इतिहास – The History of Bareilly In Hindi

हिंदी सुविचार – Motivational Thoughts, Quotes, status, Shayari

The History Of Indian Cricket| भारतीय क्रिकेट का इतिहास

2019 Best Friendship Status, Friendship Sms And Quotes Hindi



तो दोस्तो में उम्मीद करता हु। की आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आई होगी। रसूल अल्लाह की शायरी अगर आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आई हो। तो इसको दोस्तो ओर परिवार वालो के साथ शेयर करना न भूले।

रसूल अल्लाह इस्लामी कोट्स | रसूल अल्लाह के अनमोल बचन

Nazim Khan

About Nazim Khan

Guys welcome to my website and i am the founder of my blog @onlinehinditeach.com . I am work on those categories like - Tech, Health, Festival, Wordpress etc.
View all posts by Nazim Khan →

Leave a Reply