Technology

Website ka traffic kam hone ke kya karan hai in Hindi

Nazim Khan
Written by Nazim Khan

हेल्लो गाइस मेरा नाम है Nazim khan और में एक बार फिर से स्वागत करता हूँ । आपकी वेबसाइ OHT पर दोस्तो ये है मेरी वेबसाइट का short name तो दोस्तो आज हम जिस पोस्ट के बारे में बात करेंगे वो है,



Website ka traffic kam hone ke kya karan hai in Hindi

दोस्तो आज कल मॉडल जमाना है । और सब काम ऑनलाइन ही चल रहे है । और दोस्तो ऑनलाइन काम करने में सबसे ज्यादा हेल्पफुल जो चीज़ है वो है website .

मैंने website रैंकिंग प्रॉब्लम की वजह से कई लोगो को परेशान होते हुए देखा है । तो दोस्तो अब आपको परेशान होने की कोई जरूरत नही है । क्योंकि आज इस पोस्ट को पढ़ने के बाद कभी भी आपकी website की रैंकिंग कम नही होगी। तो दोस्तो चलिए स्टार्ट करते है ।

Ye bhi padhe

https://onlinehinditeach.com/1727-2/

https://onlinehinditeach.com/apni-website-or-youtube-channel-ka-logo-kaise-banate-hai-in-hindi/

Website traffic kam hone ke karan

Contents




दोस्तो अगर आप एक ब्लॉगर है तो आपको पता होगा कि contents किसको बोलते है । और ये क्या होता है । दोस्तो contents हम उस चीज़ को बोलते है जैसे कि आप अपनी website के लिए article या post लिख रहे है । और आपने किसी और बंदे की website से कॉपी कर ली । यानी उसकी site से आपने कुछ भी देख लिया और अपनी वेबसाइट पर लिख दिया

तो आपकी website का traffic डाउन हो सकता है या कम हो सकता है ।

तो दोस्तो आपको किसी की भी कॉपी नही करना है और जो भी लिखना है । अपना ही लिखना है । अगर आप ऐसा लगातार करते है । तो आपकी website बंद भी हो सकती है ।

Keyword research




दोस्तो कोई दौर था कि आसानी से keyword research करके अपनी site को रैंक कर सकते थे । लेकिन आज कल ब्लोग्गेर्स की संख्या बढ़ गयी है ।

तो हम लोग सही से keyword research भी नही कर पाते । जिस की वजह से हमारा traffic डाउन होता जाता है।

तो दोस्तो आपको सही से keyword research करना है। तभी आपकी website traffic बढ़ सकता है ।

Blog title

फ्रेंड्स सबसे जरूरी चीज है, आपकी वेबसाइट का Blog title दोस्तो कई बार ऐसा होता है , ना कि आपकी website और किसी और बंदे की website का नाम जो होता है ना वो same हो जाता है ।

दोस्तो जैसे कि मेरी वेबसाइट का नाम है Onlinehinditeach.com और आप अपनी वेबसाइट बनाने जा रहे है और आपने अपनी website का नाम भी onlinehinditeach.com ही रख दिया । तो आपकी वेबसाइट का सारा ट्रैफिक मेरी वेबसाइट पर आएगा ।



क्योंकि मेरी वेबसाइट पुरानी है । और में अपनी अपनी वेबसाइट पर बहुत सारा काम कर चुका हूं । तो दोस्तो आपको ऐसा नही करना है । आपको अपनी website का नाम बिल्कुल अलग और unique रखना है । ताकि आपकी website का traffic किसी ओर website पर न जा सके ।

Missing sitemap




दोस्तो कई बार ऐसा होता है कि हम लोग अपनी साइट को google search console में ऐड तो कर देते है । लेकिन google search console की सबसे जरूरी चीज sitemap नही लगाते है ।

और sitemap के बिना गूगल सर्च कंसोल अधूरा सा रहता है । वो आपकी पोस्ट और आर्टिकल को बहुत लंबे समय मे ही गूगल सर्च में ला पाता है ।

जिस कारण आपकी website पर traffic कम होने लगता है । और लोग परेशान होते है कि ट्रैफिक काम क्यों हो रहा है ।

Ye bhi padhe

https://onlinehinditeach.com/best-facebook-stylish-names-for-boys/

https://onlinehinditeach.com/a-to-z-facebook-status-for-boys/

Post title




दोस्तो ज्यादातर नए ब्लॉगर्स जो होते है । वो ज्यादातर यही गलती करते है । कि वो अपनी post या article का title दूसरे ब्लॉगर्स की site की तरह ही डाल देते है ।

जिस कारण उनकी पोस्ट या आर्टिकल रैंक नही कर पाता और उनका traffic दम पे दम कम होता चला जाता है ।

क्योकि आपने जिस पोस्ट का टाइटल डाला है वो keyword तो उस बंदे का पहले से ही रैंक है । और एक keyword को दुवारा रैंक करना impossile है ।

इसलिए आप जो भी आर्टिकल या पोस्ट डाले उसका पहले keyword research कर ले तब ही उस पोस्ट को पब्लिश करे ।

Error page




अधिकतर वेबसाइट्स में यही गलती होती है । कि उनके ज्यादातर pages error होते है । यही वेबसाइट रैंकिंग में सबसे ज्यादा प्रॉब्लम करते है ।

तो आपकी websites में आपके जितने भी एरर pages है आप उन pages को डिलेट कर दे ।

दोस्तो में आशा करता हु आपको मेरे द्वारा बताई गई , Website ka traffic kam hone ke kya karan hai in Hindi पसंद आई होगी ।



अगर पसंद आई हो तो फैला तो social media पर

Aapka सुभचिंतक

About the author

Nazim Khan

Nazim Khan

Guys welcome to my website and i am the founder of my blog @onlinehinditeach.com . I am work on those categories like - Tech, Health, Festival, Wordpress etc.